Home डॉ. वेदप्रताप वैदिक यह फैसला तर्कसंगत नहीं

यह फैसला तर्कसंगत नहीं

46
0
SHARE
डॉ. वेदप्रताप वैदिक —सर्वोच्च न्यायालय की यह बात तो बिल्कुल ठीक है कि भारत का संविधान नागरिकों को अपने ‘धर्म-प्रचार’ की पूरी छूट देता है और हर व्यक्ति को पूरा अधिकार है कि वह जिसे चाहे, उस धर्म को स्वीकार करे। हर व्यक्ति अपने जीवन का खुद मालिक है। उसका धर्म क्या हो और उसका जीवन-साथी कौन हो, यह स्वयं उसे ही तय करना है। यह फैसला देते हुए सर्वोच्च